fingers name in Hindi and its work – 2022

हाथों की उंगलियों के नाम व इनके कार्य, fingers name in Hindi and its work -2022

हमारे शरीर का हर अंग अलग तरीके से कार्य करता है। हर अंग का अपना कार्य होता है। इसी प्रकार हमारे हाथों की उंगलियां भी अलग अलग तरीके से कार्य करती हैं। हमारे हाथों की उंगलियां शरीर के किसी ना किसी अंग से जुड़ी होती हैं।

यदि हमारे किसी एक अंग पर चोट लगती है तो पूरे शरीर पर इसका प्रभाव होता है। यदि शरीर के किसी अंग पर कुछ होता है और वह हमारे हाथ की किसी उंगली से जुड़ा  होता है तो प्रभाव उस उंगली पर भी होता है। इसी प्रकार यह उंगलियां अलग-अलग बीमारियों और भावनाओं से जुड़ी होती हैं।

यह उंगलियां हमारे दर्द, चिड़चिड़ापन और ऐसी ही कई समस्याओं का समाधान कर सकती हैं। इस लेख में हम इन उंगलियों के बारे में जानेंगे। कौन सी उंगली क्या कार्य करती है। किस प्रकार शरीर पर इनका प्रभाव होता है।

Credit: Sabkuchhlearn Five fingers name for kids in English and Hindi

उंगलियां हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। आमतौर पर हमारे हाथ में पांच उंगलियां होती हैं। यह इस प्रकार है–

fingers name English and Hindi

  • अंगूठा (Thumb)
  • तर्जनी उंगली (Index Finger)
  • मध्यमा उंगली (Middle Finger)
  • अनामिका उंगली (Ring Finger)
  • कनिष्ठा उंगली (Little Finger)

fingers name in Hindi details Work explain

अंगूठा

अंगूठा जिसे अंगुष्ठा भी कहा जाता है। इसे भले ही उंगलियों के साथ जोड़ा जाता है लेकिन यह उंगलियों से अलग होता है। अंगूठा पूरी हथेली का प्रतिनिधित्व करता है। यह हाथ की उंगलियों को मजबूती प्रदान करता है।

किसी भी समान को उठाने या कोई भी कार्य करने में अंगूठे की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। हमारे हाथ का अंगूठा हमारे फेफड़ों से जुड़ा होता है। यदि किसी की दिल की धड़कन तेज हो रही है तो अंगूठे पर हल्की सी मसाज करके और हल्का सा खींचे। इससे आराम मिलता है।

तर्जनी उंगली (Index Finger)

अंगुठे के बाद या अंगुठे के पास तर्जनी उंगली होती है। यह भी हाथ का एक महत्वपूर्ण अंग है। किसी को भी या किसी चीज की ओर इशारा करने के लिए इसी का प्रयोग किया जाता है। सभी कार्यों को करने में यह उंगली मदद करती है। तर्जनी उंगली के भी कई फायदे हैं। यह शरीर की आंतो से जुड़ी होती है। यदि किसी व्यक्ति को पेट दर्द हो रहा हो और उंगली को थोड़ा रगड़े तो पेट दर्द कम हो जाता है।

मध्यमा उंगली (Middle Finger)

तर्जनी के पास या उसके बाद मध्यमा आती है। इसे बीच की उंगली भी कहा जाता है क्योंकि यह सभी उंगलियों के बीच में होती है। यह हाथ की सबसे लंबी उंगली होती है। हाथ की सबसे लंबी उंगली होती है। इस उंगली के भी कई फायदे होते हैं। अगर किसी को चक्कर आते हैं या मन मचलता है तो वह अपनी मध्यमा उंगली की मालिश कर राहत पा सकता है क्योंकि इसका संबंध परिसंचरण तंत्र से होता है।

अनामिका उंगली (Ring Finger)

मध्यमा उंगली के बाद जा उसके पास अनामिका होती है। यह उंगली भी शरीर के किसी अंग से जुड़ी होती है। यह उंगली मनोदशा से जुड़ी होती है। यदि किसी व्यक्ति को मानसिक परेशानी हो रही है तो वह अपनी इस उंगली की मालिश कर सकता है और इसे खींचने के बाद अच्छा महसूस होगा और शांति भी मिलेगी।

कनिष्ठा उंगली (Little Finger)

अनामिका के बाद कनिष्ठिका आती है। कनिष्ठिका उंगली हाथ की सबसे छोटी उंगली होती है। इसका नाम महाकवि कालिदास के नाम पर पड़ा। इसके भी कई फायदे है। यह उंगली किडनी और सिर के साथ जुड़ी होती है।

अगर आप इस उंगली की मसाज करते हैं तो आपको किडनी संबंधी कोई रोग नहीं होगा और किडनी स्वस्थ रहेगी। मस्तिष्क संबंधी परेशानी के लिए भी यह फायदेमंद है।अगर आपका सर दर्द होता है तो आप इस उंगली को दबाकर सिर दर्द कम कर सकते हैं।

Read Also:

Leave a Comment